Wednesday, February 17, 2010

मेरा सवाल 76

हिन्दी साहित्यकार मन्नू भंडारी का वास्तविक नाम क्या है?

मेरा सवाल 75 का सही उत्तर पंजाब राज्य का नाम इन पांच नदियों के नाम पर पड़ा- सतलुज, चिनाब, व्यास,रावी,झेलम,


श्री प्रकाश गोविं जी द्वारा सर्वप्रथम सही उत्‍तर दिया गया बधाई।

इसके अलावा सर्वश्री श्रीमती अल्पना जी, गौतम जी,मोहसिन जी, शमीम जी, और ने भी सही उत्‍तर प्रेषित किया ।

आपका तथा समस्‍त आगंतुकों का धन्‍यवाद एवं आभार ।

चलतेचलते ******हिन्दी में ध्वनि अंग्रेजी भाषा से ली गई।


प्रोत्साहित करने के लिए आप सभी का पुनः धन्यवाद। विश्वास दिलाता हूं १०० वां प्रश्न धमाकेदार तरीके से पेश करुंगा.





10 comments:

अल्पना वर्मा said...

महेंद्र कुमारी

प्रकाश गोविन्द said...

महेंद्र कुमारी

प्रकाश गोविन्द said...

मध्य प्रदेश में मंदसौर जिले के भानपुरा गाँव में जन्मी मन्नू का बचपन का नाम महेंद्र कुमारी था। लेखन के लिए उन्होंने मन्नू नाम का चुनाव किया।

प्रकाश गोविन्द said...

ज़मीर भाई आपने ये कहाँ पढ़ा कि हिन्दी में “औ” ध्वनि अंग्रेजी भाषा से ली गई।
मुझे ऐसा बिलकुल भी नहीं लगता ! संस्कृत आदि भाषा रही है और हिंदी का मूल भी ! संस्कृत में 'औ' का उच्चारण व्यापक रूप से होता है ! आपने कहाँ से यह जानकारी प्राप्त की !

बूझो तो जानें said...

आदर्णीय प्रकाश जी, नमस्कार.
उक्त तथ्य को मैंने श्री पुनीत कुमार राय की पुस्तक "वस्तुनिष्ठ हिन्दी" के पेज सं. ३६३ से लिया है.
अनुरोध है कि आप इस तथ्य के बारे में अवगत कराने की क्रीपा करें.

सादर

Devendra said...

वास्तविक नाम याद नहीं है.

Ram Krishna Gautam said...

मन्नू भंडारी (जन्म ३ अप्रैल १९३१) हिन्दी की सुप्रसिद्ध कहानीकार हैं। मध्य प्रदेश में मंदसौर जिले के भानपुरा गाँव में जन्मी मन्नू का बचपन का नाम "महेंद्र कुमारी" था। लेखन के लिए उन्होंने मन्नू नाम का चुनाव किया। उन्होंने एम ए तक शिक्षा पाई और वर्षों तक दिल्ली के मीरांडा हाउस में अध्यापिका रहीं। धर्मयुग में धारावाहिक रूप से प्रकाशित उपन्यास आपका बंटी से लोकप्रियता प्राप्त करने वाली मन्नू भंडारी विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में प्रेमचंद सृजनपीठ की अध्यक्षा भी रहीं। लेखन का संस्कार उन्हें विरासत में मिला। उनके पिता सुख सम्पतराय भी जाने माने लेखक थे।


प्रकाशित कृतियाँ
कहानी-संग्रह :- एक प्लेट सैलाब, मैं हार गई, तीन निगाहों की एक तस्वीर, यही सच है, त्रिशंकु, श्रेष्ठ कहानियाँ, आँखों देखा झूठ, नायक खलनायक विदूषक।
उपन्यास :- आपका बंटी, महाभोज, स्वामी, एक इंच मुस्कान और कलवा, एक कहानी यह भी।
पटकथाएँ :- रजनी, निर्मला, स्वामी, दर्पण।
नाटक :- बिना दीवारों का घर।

शुभ भाव


राम कृष्ण गौतम "राम"

शमीम said...

Mahendra Kumari.

मोहसिन said...

महेंद्र कुमारी

बूझो तो जानें said...

Jee haa. Sahi uttar Mahendra kumari hai.
jyada vishleshit nahi kar raha hu kyonki Ram Krishna Gautam jee ne Byora de hee diya hai.

Dhanyawaad.